Breaking

Sunday, 9 December 2018

5s implementation plan in business as well as in our personal life

         

 5s implementation plan - जो लोग किसी कंपनी में employee है या रह चूके है वो तो  5-S के बारे मे जानते होंगे और जो नही है वो आज जान जायेंगे. किसी भी business मे 5-S implimentation का असाधारण महत्व है. जिस से time की बचत होती है, wastage कम होता है, safety बढती है, men और machine  की efficiency बढती है. all over company की growth होती है.

    Japan के Sakichi Toyado उनके बेटे Kiichiro और Taiichi Ohno जो की Yoyato के engineer थे उन्होने ये 5-S प्रणाली का निर्माण किया.
                                     
                                                 




                     5-IMPLIMENTATION PLAN

 5-S क्या है??

1)Seiri (Stucturise)-अनचाही चिजें बाहर निकालना.
2)Seiton(Systematise)- जरूरत की चिजे काम के क्रम के अनुसार रखना.
3)Seiso(Sanitise)-अच्छी से सफाई करना.
4)Seiketsu(Standardise)-उपर तिन्हों प्रणाली का अवलोकन करना.
5)Shitsuke(Self Discipline)-5s प्रणाली दुसरे लोगो को सिखाना.

1)Seiri (Stucturise) - इस process हम हमारी काम की जगह पर जो बिना उपयोग कि वस्तू है उसे बाहर निकाल देते है.जिससे आवश्यक वस्तू के लिए जगह बन जाती है.वस्तू कम होने से disturbance भी कम होता है.वस्तू ढून्ढने के टाईम मे बचत होती है. सुरक्षा हेतू भी ये लाभदायक है.
   इस process मे सब वस्तू चेक कि जाती है. उसके आवश्यकता के अनुसार उसका मुल्यांकन होता है. जो अभी उपयुक्त नही लेकिन बाद मे उपयोग मे आनेवाली है उसे red tag area मे डाला जाता है.

2)Seiton (Systematise) - इस activity मे काम कि लगनेवाली चिजों को उसके उपयोग के क्रम के अनुसार लेबल लगाकर रखा जाता है. जिस से उसका उपयोग और जगह स्पष्ठ होती है.
   इस से काम करने कि क्रिया सुलभ होती है.इस से उस वस्तु को ढूंढ़ने में आसानी होती है.वस्तु खोने से बचती है.और काम होने के बाद वस्तु अपने जगह पर रखी जाती है.

3)Seiso(Sanitise) - काम की जगह अच्छी तरह सफाई करे.
   अच्छी सफाई से काम कि जगह और मशिनों को बार बार चेक किया जाता है. इस से चिजे खराब होने से बचती है. सुरक्षितता बढती है. काम करने के लिए मन को प्रोत्साहान मिलता है. product कि quality भी improve होती है.

4)Seiketsu(Standardise) - कार्य स्थल का और कार्य प्रणाली का  standardisation किया जाता है. उपर कि तिन्हो process योग्य तरह से चले इस के लिए इक मानक बनाए. कि उपर कि process का कभी खंडन न हो और वो परीपूर्ण प्रक्रिया से चलता रहे.
   सब प्रक्रिया योग्य तरह से चल रही है इसके लिए फोटो और visual control का प्रयोग किया जाता है. इस के योग्य परीणाम के लिए audit checklist का प्रयोग किया जाता है. हर इक employee को अपने जिम्मेदारी से अवगत किया जाता है.

5)Shitsuke(Self Dicilpline) - इस मे 5-s process को  अपने daily work कि आदत बनाई जाती है और दुसरे लोगो को follow करने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है.
  5-s training session का आयोजन किया जाता है. regular audit कर के ये तसल्ली कि जाती है 5-s process योग्य तरह से चल रही है. जब जरूरत हो तब नया बदलाव लाए उसके employee का सहयोग बहोत महत्वपूर्ण होता है. जब भी कोई issue हो वो दुबारा न हो इसके लिए जो बदलाव जरूरी होता है वो करे.

                                   "5-s implementation in start-up business"

      आप इस process को start-up के लिए भी use कर सकते हो.

1)Seiri ( Stucturise ) - जब आप कोई business plan   कर रहे हो तो सबसे पहले अपने मन में आनेवाले negative विचारों को मन से बाहर कर दो.

2)Seiton ( Systematise ) - जब भी आप के मन मे कोई अच्छा business idea आता है तो उसके implementation का इक systematic business plan बनाओ कि पहले कोन सी चिज करनी है और उसके बाद कोनसी चिज करनी है. बाद मे करनी वाली चिजों को कही लिखकर रखिए क्यों कि वो आपको याद रहे. इस के लिए आप एक notebook उपयोग कर सकते है.

3)Seiso ( Sanitise ) - अपने मन को positive विचारों से साफ करो. आनंदी रहो. motivational stories पढो. बडे बडे businessman की biography पढो जिस से आप के मन को प्रेरणा मिले.

4)Seiketsu ( Standardise) - उपर के तिन्हो प्रक्रिया का खंडन न हो इसका ध्यान रखे.उसके लिए आप अपने कमरे मे इस का इक chart बना के रख सकते है जिस पर आप कि नजर बार बार पडे.

5)Shitsuke ( Self Dicipline ) - आप अपने दिमाग को इक employee समज कर खुद train करे ये चिजे करने के लिए. हर इंसान के दिमाग में अच्छे अच्छे ideas आते है. अपने हिसाब से आप इस में बदलाव भी कर सकते है.

                                     "5-s implementation in our personal life."


1)Seiri ( Stucturise ) - अपने मन में आनेवाले बुरे विचारों को मन से बाहर कर दो. जैसे गुस्सा, लालच,शक करना, किसी का बुरा चाहना,किसी बात कि बहोत ज्यादा चिंता करना.जिस से आप के मन में अच्छे विचारों जगह मिलेगी.

2)Seiton ( Systemasation ) - इसे में जो अच्छे विचार है उन्हें प्रथम स्थान दो जैसे किसी कि मदत करना, लोगो से अच्छा बर्ताव करना, दान-धर्म करना आदी अच्छे विचार मन में आयेंगे तो बुरे विचार मन मे आयेंगे नही.

3)Seiso ( Sanitise ) - इस में आप अपने मन को साफ करो जिसके लिए आप भगवान के नाम का जाप करो,भजन किर्तन करो,धार्मिक ग्रंथ पढो और अपने मन को साफ और निर्मल बनाइए.

4)Seiketsu (Standardise) - मन ही मन में ऐसा मानक बनाइए कि उपर लिखे तिन्हों गतविधीयों का खंडन न होने पाए.इसके लिए आप मन ही मन में सही चिजों का चित्र बनाइए. उस पर सुधार लाए.

5)Shitsuke ( Self Dicipline ) - आप ही अपने मन को अच्छी चिजें करने के लिए प्रशिक्षित करो.मन को हमेशा अच्छे कर्म करने के लिए प्रोत्साहित करो.  हमारे बर्ताव में कितना सुधार आया है,हमारा बर्ताव पहले कैसा था और अब कैसा है इसका अवलोकन भी करो.अच्छे कर्म करने के लिए खुद ही वचनबद्ध हो जाओ.
     सच मे आपको इक अलग अनुभूती होगी. आप के मन को शांती मिलेगी.

  Motivational Thoughts

     किसी भी इंसान कि हार या जित दो बार होती है. पहले मन में फिर मैदान मे. आप सोचोगे कि आप जित जाओगे तो आप जित ही जाओगे,आप सोचोगे आप हार जाओगे तो आप हार ही जाओगे.Success कि शुरूवात हमेशा मन से होती है. बलवान कि हमेशा जित नही होती, जित होती है किसी भी इंसान कि प्रबल इच्छाशक्ती की.